Tag: Jayprakash

किसान मजदूर सेना गोंडा इकाई द्वारा शुरू हुयी ब्लाक स्तरीय बैठक

किसान मजदूर सेना (किमसे) संगठन विस्तार कार्यकर्म के अंतर्गत जिला ईकाईयों को मजबूत करने का शुरू किया कार्य आदरणीय संस्थापक श्री के मार्गदर्शन में सदस्यता अभियान में लायी जा रही है तेजी उत्तर प्रदेश के गन्ना किसानों के भुगतान को लेकर तय किया जायेगा अन्दोलन का कार्यक्रम   दिनांक 02 अक्टूबर 2019 को किमसे गोंडा […]

Read More

2019 लोकसभा चुनाव पर जनता के लिए असली घोषणा पत्र श्री जयप्रकाश जी द्वारा

हमारे संस्थापक एवं राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जयप्रकाशजी दूबे (जेपीभैया) द्वारा वर्तमान लोकसभा चुनाव में जनता से जुड़े हुए मुद्दों पर एक वक्तव्य दिया गया। इस वक्तव्य में श्री जेपीभैया ने किसानों की आत्महत्या, गांवों से पलायन, श्रमिकों के शोषण, जनसख्या विस्फोट, भ्रष्टाचार जैसे कई मुद्दों को शामिल किये जाने की माग की। आदरणीय श्री जयप्रकाश […]

Read More

किसान मजदूर सेना ने किया गोरखपुर मंडल ईकाई का गठन

किमसे संस्थपक व राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जयप्रकाश दूबे (जेपीभैया) द्वारा गोरखपुर के गोलघर में किसान मजदूर सेना (किमसे) गोरखपुर मंडल की संरचना की गयी। गोरखपुर के गोलघर व मोहद्दीपुर में बैठक सम्पन्न हुई। गोरखपुर मण्डल की संरचना की गई व किसानों, मजदूरों व आमजनमानस की सेवा व सामाजिक सुरक्षा के लिए संकल्प लिया गया। जय कृषक, […]

Read More

वरिष्ठ समाज सेवी मुकेश तिवारी ने संभाला फैज़ाबाद मंडल संयोजक का पद

वरिष्ठ समाज सेवी मुकेश तिवारी ने संभाला फैज़ाबाद मंडल संयोजक का पद जय किसान, जय मजदूर, जय जवान आज दिनाँक 29 जून 2018 दिन शुक्रवार को फैज़ाबाद में मंडल स्तरीय बैठक सम्पन हुई। श्री मुकेश तिवारी वरिष्ठ समाज सेवी ने श्री जयप्रकाश (जेपी भैया) ने नेतृत्व में किसान मजदूर सेना फैज़ाबाद मंडल के संयोजक पद […]

Read More

किसानों की समस्याओं को लेकर सांसद वरुण गांधी से की भेंट

19 मार्च । अहमदाबाद। किसानों की समस्याओं को लेकर  किसान मजदूर सेना के संगठन मंत्री अनिल शर्मा जी व श्री वरुण गांधी जी की भेंट हुई। श्री अनिल शर्मा जी ने सांसद को देश के किसानों की समस्याओं से अवगत कराते हुए, किसानों की बातों को संसद में उठाने का आग्रह किया इस दौरान किसान […]

Read More

भारतीय किसान और उनकी मूलभूत समस्याएं

भारतीय किसान और उनकी मूलभूत समस्याएं देश की 70 फीसदी आबादी गांवों में रहती है और कृषि पर ही निर्भर है। ऐसे में किसानों की खुशहाली की बात सभी करते हैं और उनके लिए योजनाएं भी बनाते हैं किंतु उनकी मूलभूत समस्या ज्यों की त्यों बनी रहती है। लेखक ने किसानों की समस्याओं को उठाते […]

Read More