Tag: जेपी भैया

आदरणीय संस्थापक महोदय ने कोरोना महामारी के दौरान वितरित किए साबुन व मास्क

कोरोना वायरस के चलते दुनिया में फैली महामारी भारत में भी तांडव मचा रही है। इसी क्रम में आदरणीय जयप्रकाश दूबे जेपीभैया ने संगठन की सभी इकाइयों को, संगठन के सभी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं को संदेश जारी किया कि सभी लोग अपने अपने क्षेत्र में सभी लोग अपने अपने जिले में जरूरतमंद लोगों को मास्क […]

Read More

उत्तर प्रदेश संगठन मंत्री बिट्टू मल्ल ने किया विशेष दिवाली पूजन

किसान मजदूर सेना उत्तर प्रदेश के संगठन मंत्री श्री बिट्टू मल्ल द्वारा किमसे सेवा केंद्र पर विशेष पूजा पाठ करके दीपावली मनाई गयी। किसान मजदूर सेना जो कि किसानों के लिए, प्राइवेट कर्मचारियों के लिए, सेना के जवानों व आमजन के लिए सेवारत एक संगठन है। श्री बिट्टू जी ने बताया की आदरणीय जयप्रकाश जी […]

Read More

किसान मजदूर सेना ने किया गोरखपुर मंडल ईकाई का गठन

किमसे संस्थपक व राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री जयप्रकाश दूबे (जेपीभैया) द्वारा गोरखपुर के गोलघर में किसान मजदूर सेना (किमसे) गोरखपुर मंडल की संरचना की गयी। गोरखपुर के गोलघर व मोहद्दीपुर में बैठक सम्पन्न हुई। गोरखपुर मण्डल की संरचना की गई व किसानों, मजदूरों व आमजनमानस की सेवा व सामाजिक सुरक्षा के लिए संकल्प लिया गया। जय कृषक, […]

Read More

किसानों की समस्याओं को लेकर सांसद वरुण गांधी से की भेंट

19 मार्च । अहमदाबाद। किसानों की समस्याओं को लेकर  किसान मजदूर सेना के संगठन मंत्री अनिल शर्मा जी व श्री वरुण गांधी जी की भेंट हुई। श्री अनिल शर्मा जी ने सांसद को देश के किसानों की समस्याओं से अवगत कराते हुए, किसानों की बातों को संसद में उठाने का आग्रह किया इस दौरान किसान […]

Read More

किसानों की समस्याओं पर राजनीति तो बहुत होती है पर काम नहीं होता

स्वतंत्र भारत से पूर्व और स्वतंत्र भारत के पश्चात् एक लम्बी अवधि बीतने के बाद भी भारतीय किसानों की दशा में सिर्फ 19-20 का ही अंतर दिखाई देता है। जिन अच्छे किसानों की बात की जाती है, उनकी गिनती उंगलियों पर की जा सकती है। बढ़ती आबादी, औद्योगीकरण एवं नगरीकरण के कारण कृषि योग्य क्षेत्रफल […]

Read More

भारतीय किसान और उनकी मूलभूत समस्याएं

भारतीय किसान और उनकी मूलभूत समस्याएं देश की 70 फीसदी आबादी गांवों में रहती है और कृषि पर ही निर्भर है। ऐसे में किसानों की खुशहाली की बात सभी करते हैं और उनके लिए योजनाएं भी बनाते हैं किंतु उनकी मूलभूत समस्या ज्यों की त्यों बनी रहती है। लेखक ने किसानों की समस्याओं को उठाते […]

Read More