जवानों के सम्मान में किसान मजदूर सेना गोंडा जिला मैदान में

जवानों के सम्मान में किसान मजदूर सेना गोंडा जिला मैदान में

जेपीभैया द्वारा संस्थापित किसान मजदूर सेना के गोण्डा इकाई द्वारा जलाया गया पाकिस्तान का पुतला

किमसे गोण्डा जिला अध्यक्ष के अगुवाई में हुआ कार्यक्रम

किसान मजदूर सेना है एक राष्ट्रीय स्तर का राष्ट्रवादी संगठन

किसान मजदूर सेना की गोंडा इकाई द्वारा आज पुलवामा में शहीद हुए सीआरपीएफ के जवानों के सम्मान में एक यात्रा निकाली गई। इस यात्रा में किसान मजदूर सेना के जिला अध्यक्ष ब्रिजेश द्विवेदी व किसान मजदूर सेना गोण्डा के सैकड़ों कार्यकर्ताओं के द्वारा ग्रामसभा बनगाई बरूवार, धानेपुर गोंडा में पाकिस्तान का पुतला दहन किया गया।  पुतला दहन के साथ ही साथ वह लगभग 1 किलोमीटर तक कैंडल मार्च निकाल कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी गयी।

किसान मजदूर सेना के जिला अध्यक्ष बृजेश द्विवेदी ने बताया कि जिस तरह से पाकिस्तानी आतंकवादियों के द्वारा हमारे जवानों पर कायराना पूर्वक हमला किया गया है वह निंदनीय है, किसान मजदूर सेना एक राष्ट्रवादी संगठन है जो किसानों के लिए, प्राइवेट कर्मचारियों के लिए, मजदूरों के लिए वाह आम जनमानस के लिए सेवा व सामाजिक सुरक्षा प्रदान करता है। बृजेश द्विवेदी ने कहा कि आज जिस तरह से पाकिस्तान ने बर्बरता पूर्वक कार्यवाही की है उसने एक युद्ध छेड़ा है। किसान मजदूर सेना भारत सरकार से मांग करती है कि पाकिस्तान और भारत में छिपे हुए आतंकवादियों को जल्द से जल्द मौत के घाट उतारा जाए। किसान मजदूर सेना का मानना है कि किसान ही इस राष्ट्र का असली निर्माता है। किसान और मजदूर के घर के बच्चे ही फौज में, सेना में, सीआरपीएफ में, बीएसएफ में सीआईएसफ में व अन्य सुरक्षा विभागों में काम करते हैं। किसी इंजीनियर का बेटा, किसी बड़े डॉक्टर का बेटा, किसी बड़े नेता का बेटा, किसी बड़े व्यापारी का बेटा व किसी बड़े ठेकेदार का बेटा देश सेवा में नहीं जाता है देश सेवा में जमीन से जुड़े हुए लोग जाते हैं और किसान मजदूर सेना भारत की सरजमी से जुड़े लोगों का संगठन है इसलिए हमारी मांग है कि जल्द से जल्द कार्यवाही करते हुए वर्तमान सरकार पाकिस्तान से बदला लिया जाए।

इस कार्यक्रम में किसान मजदूर सेना गोंडा के जिला अध्यक्ष ब्रिजेश द्विवेदी, विजय जी, अनिल कुमार, श्यामू प्रधान, पटवारीजी, योगेश पांडेय, सुशील कुमार, मुलायम तिवारी, कृष्णाधर, राजा सहित किसान मजदूर सेना के सैंकड़ों कार्यकर्ता मौजूद रहे।