किमसे गायक कुमार सुजीत द्वारा किसान मजदूर सेना (किमसे) का संगठन गीत

किमसे गायक कुमार सुजीत द्वारा किसान मजदूर सेना (किमसे) का संगठन गीत

संगठन का गीत

रचनाकार : श्री जयप्रकाश दूबे (जेपीभैया)
गायक : कुमार सुजीत
रिकॉडिंग स्टुडियो : रेखा म्यूजिक स्टुडियो

यह संगठन का गीत है जिसे कार्यक्रमों के दौरान गाया जायेगा:

कृषक- श्रमिक हम कर्णधार हैं  हमने राष्ट्र बनाना सीखा ।
खून-पसीना बहा के अपना देश पे बलि-बलि जाना सीखा ।।

धूप-छावं कुछ नहीं देखते हम वो वीर जवान हैं,
भारत माँ के सच्चे बेटे अन्न और श्रम दान हैं,
खेती और अथक श्रम करके देश को आगे लाना सीखा ।
खून-पसीना बहा के अपना देश पे बलि-बलि जाना सीखा ।।

देखो अब परिश्रम हमारा, सब कुछ बदला जाएगा,
भारत विश्गुरु जब होगा, नया सबेरा आयेगा
देश के अदंर-बहार के गद्दारों से लड़ जाना सीखा।
खून-पसीना बहा के अपना देश पे बलि-बलि जाना सीखा ।।

चलो, उठो अब कसो कमर सब, बहुत विकट संग्राम  है,
भय व भरष्टाचार – गरीबी  दुश्मन का आयाम है,
जिसने संघर्षों में ठोकर खा करके उठ जाना सीखा।
खून-पसीना बहा के अपना देश पे बलि-बलि जाना सीखा ।।

कृषक- श्रमिक हम कर्णधार हैं  हमने राष्ट्र बनाना सीखा ।
खून-पसीना बहा के अपना देश पे बलि-बलि जाना सीखा ।।

जय प्रकाश दूबे ( रचना दिनांक : 09.08.2017)